banner1 banner2 banner3
शाकाहार की तरफ जा रही दुनिया !

एक समाचार के अनुसार अमरीका में डेढ़ करोड़ व्यक्ति शाकाहारी हैं। दस वर्ष पूर्व नीदरलैंड की ”१.५% आबादी” शाकाहारी थी जबकि वर्तमान में वहाँ ”५%” व्यक्ति शाकाहारी हैं। सुप्रसिद्ध गैलप मतगणना के अनुसार इंग्लैंड में प्रति सप्ताह ”३००० व्यक्ति” शाकाहारी बन रहे हैं। वहाँ अब ‘‘२५ लाख” से अधिक व्यक्ति शाकाहारी हैं। सुप्रसिद्ध गायक माइकेल जैकसन एवं मैडोना पहले से ही शाकाहारी हो चुके हैं। अब विश्व की सुप्रसिद्ध टेनिस खिलाड़ी मार्टिना नवरातिलोवा ने भी ‘शाकाहार’ व्रत धारण कर लिया है। बुद्धिजीवी व्यक्ति…

Read more: शाकाहार की तरफ जा रही दुनिया !

क्या नए साल का मतलब   मांस और शराब है?

नए साल का जश्न बिना मांसाहार-शराब के क्यों नहीं?गरिमापूर्ण तरीके से नए साल का स्वागत किया जाना चाहिए। मांसाहार बेचनेवाली कंपनियों, होटलों, शराब के व्यापारियों के अभियान में शामिल मत होइए। बिना मांसाहार और शराबनोशीं के नए साल का स्वागत कीजिये। कुछ व्यवसाय क्षेत्र चाहते हैं कि नए साल के जश्न के उनका धंधा चमके। माहौल ही ऐसा बना दिया जाता है मानो आपने 31 दिसंबर की रात शराब नहीं पी और मांस, मछली, चिकन नहीं खाया तो आप पिछड़े या कमतर क्षेत्र के हैं। शराब का नए साल के स्वागत से क्या मतलब? नया साल अगर…

Read more: क्या नए साल का मतलब मांस और शराब है?

शाकाहार आजकल शाकाहार का प्रचलन बहुत तेजी से बढ़ रहा है, और कुछ ऐसे भी लोग हैं जोकि शाकाहारी थे मगर अब मांसाहारी होते जा रहे हैं। और आश्चर्य की बात ये है कि यह दोनो ही परिवर्तन जागरुकता के कारण हो रहे हैं। लेकिन हमें अपनी जागरुकता थोड़ी और बढ़ानी चाहिए, क्योंकि असली समस्या कुछ और ही है। वो समस्या गम्भीर-विचार करने योग्य, लेकिन इसी से जुड़ी हुई है। शाकाहार या मांसाहार गंभीर विचार का विषय नहीं है। क्योंकि हमारा धर्म हमें इसके लिए बाध्य नहीं करता। गंभीर विचार का असली विषय है गौ-मांस। और यह बात सिर्फ शास्त्रों की भी नहीं, यह बात है हमारी मान्यताओं की, संस्कारों की।…

Read more: क्या है वास्तविक शाकाहार?

जहां गांधीजी को शाकाहार की प्रेरणा मिली

ब्रिटेन की वेस्टमिनस्टर यूनिवर्सिटी में इंडिया मीडिया सेंटर ने एक अभियान शुरू किया है. इस क्रेंद्र का कहना है कि लंदन में उस रेस्टोरेंट के बाहर एक नीला बोर्ड लगाया जाए जहां महात्मा गांधी को शाकाहार की प्रेरणा मिली. वो रेस्टोरेंट जहां गांधीजी ने शाकाहारी बनने की कसम खाई थी वहां अब कोई रेस्टोरेंट नहीं है लेकिन इंडिया मीडिया सेंटर की मांग है कि इस जगह पर एक नीले रंग का बोर्ड लगाया जाए ताकि लोगों को पता लग सके.…

Read more: जहां गांधीजी को शाकाहार की प्रेरणा मिली

शाकाहार अपनाएँ, सौ पशुओं को बचाएँ

दुनिया भर में हर वर्ष करोड़ों पशुओं का वध केवल खाने के लिये किया जाता है. यह जानकारी पशुओं के अधिकारों और उनके संरक्षण के लिये काम करने वाली प्रतिष्ठित संस्था ‘पेटा’ की भारत प्रमुख पूर्वा जोशिपुरा ने मुंबई से बताया.पूर्वा ने कहा, ‘विश्व पशु दिवस के दिन लोग स्वादिष्ट शाकाहारी खाना खायें और सदा के लिये शाकाहारी बनने पर विचार करें. पशुओं की मदद के लिये सबसे अच्छी बात होगी मांस का परित्याग.’उन्होंने कहा, ‘मुर्गियों, भैंसों, बकरियों को काटने के पहले उन्हें वाहनों में ठूंस-ठूंसकर भरकर ले जाया जाता है. इस दौरान पशुओं को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. कई पशुओं की तो रास्ते में ही मौत हो जाती है.’…

Read more: शाकाहार अपनाएँ, सौ पशुओं को बचाएँ

285033