banner1 banner2 banner3
Bookmark and Share

tali

मृत्यु दर और भोजन के बीच सीधा संबंध है और शाकाहारी भोजन कई बीमारियों के खतरे टालता है। शाकाहारी लोग लंबी उम्र, ज्यादा शिक्षित, कम शराब पीने वाले, कम धूम्रपान वाले पाए गए। सभी कारणों से मृत्यु होने का अनुपात शाकाहारी लोगों में मांसाहारी लोगों के मुकाबले 12 फीसदी कम शाकाहारी भोजन को स्वास्थ्य के लिए मांसाहार से बेहतर हमेशा बताया जाता है। अब एक अध्ययन में भी यह बात सामने आई है कि शाकाहारी भोजन लंबे और स्वस्थ जीवन का आधार हो सकता है। पुरुषों को शाकाहार का खासतौर पर फायदा हो सकता है।

करीब 70 हजार लोगों पर अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि वैजिटेरियन डाइट का मृत्यु दर घटाने से सीधा संबंध है। दिलचस्प रूप से शाकाहार के परिणाम महिलाओं के मुकाबले पुरुषों में ज्यादा बेहतर दिखते हैं।मृत्यु दर और भोजन के बीच संबंध इस अध्ययन का प्रमुख बिंदु था।

शाकाहारी भोजन का विभिन्न बीमारियों के खतरे को कम करने से सीधा जुड़ाव पाया गया। शाकाहारी भोजन जिन बीमारियों का खतरा काफी हद तक कम कर देता है उनमें हाइपरटेंशन, मैटाबोलिक सिंड्रोम, डाइबिटीज और हृदय रोग शामिल हैं।

कैलिफोर्निया स्थित लोमा लिंडा यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर मिशेल जे ओरलिच और उनके सहयोगियों ने एक बड़े समूह के महिलाओं और पुरुषों में मृत्यु के कारणों और कारण जनित मृत्यु का विश्लेषण किया।

शोधकर्ताओं ने डाइट पर चल रहे मरीजों से एक प्रश्नावली भरवाईजिसमें उनको पांच श्रेणियों में विभाजित किया गया था। इन मरीजों को वेजिटेरियन, नॉन-वेजिटेरियन, सेमी-वेजिटेरियन, पेस्को-वेजिटेरियन (समुद्री भोजन सहित), लेक्टो-ओवो वेजिटेरियन (डेयरी एवं अंडों जैसे उत्पाद) और वेजन (सभी पशु उत्पादों को छोड़कर) आदि श्रेणियों में
बांटा गया।

अध्ययन में इन पांच अलग-अलग समूहों पर शोध कर पता लगाया गया कि शाकाहारी भोजन करने वाले समूह के लोग ज्यादा उम्र वाले, ज्यादा शिक्षित, ज्यादा विवाहित, कम शराब पीने वाले, कम धूम्रपान करने वाले, ज्यादा व्यायाम करने वाले और ज्यादा पतले पाए गए।

अध्ययन के मुताबिक कुछ प्रमाण इस तरफ इशारा करते हैं कि शाकाहारी भोजन मृत्यु के कारणों को कम करने में मदद करता है, लेकिन दोनों के बीच इस संबंध को अभी तक अच्छी तरह स्थापित नहीं किया जा सका है।

इस शोध के दौरान छह साल में प्रतिभागियों में से औसतन 2570 लोगों की मौत हुई। जामा इंटरनल मेडिसन की ओर से प्रकाशित इस रिपोर्ट के मुताबिक मृत्यु दर प्रति एक हजार व्यक्तियों पर छह की मौत इस दौरान दर्जकी गई। सभी कारणों से मृत्यु होने का हैजार्ड रेश्यो (एचआर) शाकाहारी लोगों में मांसाहारी लोगों के मुकाबले 12 फीसदी कम था।पुरुषों में शाकाहार का असर ज्यादा देखा गया जिनमें हृदय रोग मृत्यु दर में तो भारी कमी मांसाहारी लोगों के मुकाबले देखी गई।

परिणाम के मुताबिक महिलाओं में इन श्रेणियों में शाकाहार की वजह से ज्यादा कमी नहीं देखी गई।इस शोध के परिणामों से यह स्पष्ट संकेत मिलता है शाकाहार अपनाने से मृत्यु का कारण बनने वाली बीमारियों में भारी कमी आती है। मांसाहारी लोगों के मुकाबले यह अंतर स्पष्ट रूप से देखने में आया।

सौ. : दैनिक भास्कर

272892