banner1 banner2 banner3
Bookmark and Share

Health1

शाकाहार अपनाएं: हमारे शरीर में भोजन के रास्ते जितने रासायनिक पदार्थ जाते हैं उनको भूल जाना बहुत आसान है। रैस्टोरैंटों से लेकर प्रसंस्कृत भोजन की दुकानों तक हम ढेर सारे गैर-कुदरती प्रदूषकों को निगलते रहते हैं। सप्ताह में यदि हम कुछ बार ही शाकाहारी भोजन का सेवन करें तो इससे बहुत बड़ा फर्क आ सकता है। मांस को खराब होने से रोकने के लिए इसमें कुछ रासायनिक पदार्थ मिलाए जाते हैं और कुछ पदार्थ इसे आकर्षक बनाने के लिए प्रयुक्त किए जाते हैं। ये दोनों ही तरह के पदार्थ हमारे शरीर के लिए हानिकारक होते हैं।

आर्गैनिक भोजन का विकल्प अपनाएं: हालांकि इस बारे में काफी चर्चाएं चलती हैं कि आर्गैनिक भोजन वास्तव में आपके लिए अत्यंत हितकर हो सकता है तो भी कानून की दृष्टि से आर्गैनिक होने के लिए किसी वस्तु का उत्पादन कीटनाशक तथा रासायनिक प्रक्रियाओं के संबंध में कुछ विशिष्ट सीमाओं के अन्दर करना जरूरी है। इसका अर्थ यह है कि आर्गैनिक भोजन में अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में प्रदूषकों की मात्रा कम होगी। ब्रिटेन की एन.जी.ओ. ‘पैस्टीसाइड एक्शन नैटवर्क’ ने कीटनाशकों द्वारा पैदा होने वाली समस्याओं का पता लगाने की कोशिश की है और एक ऐसी निर्देशिका तैयार की है जो आपको यह बताती है कि कौन से फलों और सब्जियों में कीटनाशकों या रासायनिक पदार्थों की मात्रा सबसे अधिक हो सकती है।

ग्रीन टी का सेवन करें: प्रदूषण का तात्पर्य यह है कि हमारे शरीर को विषैले पदार्थों तथा फ्री रैडीकल्ज से खतरा बढ़ गया है। इससे चमड़ी का लचीलापन घट जाता है और इस पर बुढ़ापा आ जाता है। प्रदूषकों और विषैले रसायनों से शरीर को जिस समस्या का सामना करना पड़ता है उसे वैज्ञानिक भाषा में ‘आक्सिडेटिव स्ट्रैस’ का नाम दिया जाता है। इस समस्या से बचने के लिए आपको अपने भोजन में अधिक एंटी आक्सीडैंट प्रयुक्त करने चाहिएं। एंटी आक्सीडैंट विषैले पदार्थों और फ्री रैडीकल्ज के साथ रासायनिक क्रिया करके उन्हें निष्प्रभावी करते हैं और इस प्रकार शरीर को पहुंचने वाली शक्ति में कमी आती है। आर्गैनिक फसलों में एंटी आक्सीडैंट्स की मात्रा सामान्य फसलों की तुलना में 60 प्रतिशत अधिक होती है। इसलिए आर्गैनिक भोजन प्रयुक्त करने से निश्चय ही शरीर को स्वस्थ रखने में सहायता मिलती है।

शोधन और सफाई के लिए प्राकृतिक उत्पाद प्रयुक्त करें: सफाई के लिए हम जितने भी उत्पाद प्रयुक्त करते हैं उनमें से अधिकतर में बहुत तेज रासायनिक पदार्थ होते हैं जो हमारे घर के अन्दर बहुत जहरीले प्रदूषकों का उत्सर्जन करते हैं। प्रो. हॉलगेट का कहना है कि घर के अन्दर पैदा होने वाले प्रदूषण के लिए भोजन पकाने की प्रक्रिया तथा सफाई के लिए प्रयुक्त होने वाले रासायनिक उत्पाद जिम्मेदार हैं। वह इस तथ्य को रेखांकित करते हैं कि हमें घर के भीतरी प्रदूषण के बारे में अधिक से अधिक जानकारी होनी चाहिए। विषैले पदार्थों से बचने के लिए आप सिरका, नींबू और बेकिंग सोडा इत्यादि प्रयुक्त करके अपने खुद के क्लीङ्क्षनग उत्पाद तैयार कर सकते हैं।

265534