banner1 banner2 banner3
Bookmark and Share

Breast-Cancer

किशोरावस्था में फलों का अधिक सेवन करने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम हो सकता है। अमेरिका के हॉर्वर्ड टीएच स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के शोधकर्ताओं ने पाया कि किशोरावस्था के दौरान जिन प्रतिभागियों ने फल का अधिक सेवन किया था, उनमें अधेड़ उम्र में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा ऐसा नहीं करने वालों के मुकाबले 25 फीसदी कम था। कम उम्र में खासकर सेब, केला, अंगूर और संतरा जैसे फलों व गोभी जैसी सब्जी का सेवन ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को कम करने के लिए अहम है। शोधकर्ताओं ने कहा कि ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को कम करने में फलों का सेवन बेशक लाभदायक हो सकता है लेकिन उनके जूस का इस खतरे को कम करने में योगदान है या नहीं, ऐसा ठीक-ठीक नहीं कहा जा सकता। फलों के साथ ही कैंसर से बचाव के लिए शाकाहारी भोजन भी बहुत फायदेमंद होता है।

शाकाहारी भोजन

 

शाकाहारी भोजन को लेकर कई लोगों के बीच भ्रामक धारणाएं प्रचलित हैं। वे इसे लेकर अक्सर असमंजस में रहते हैं कि शाकाहारी भोजन से उन्हें सही न्यूट्रिशनल वैल्यू मिल रही है या नहीं। लोगों को लगता है कि नॉनवेज फूड में ज्य़ादा न्यूट्रिशनल वैल्यू होती है लेकिन यह धारणा पूरी तरह गलत है। शाकाहारी भोजन एक संतुलित डाइट देता है। इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा और कोशिकाओं को पोषण देने वाले आवश्यक माइक्रोन्यूट्रिएंट तत्वों का संतुलित समन्वय होता है।

मांसाहारी भोजन

मांसाहारियों को जो तत्व मांसाहार से मिलते है, वैसे ही शा‍काहारी भोजन में भी शाक वे सभी तत्व मौजूद होते हैं। शाकाहारी आहार भी उतने ही पोषक होते हैं, जितने की मांसाहार में। मांसहारी लोगों के लिए प्रोटीन मछली, मांस और अंडे से प्राप्त होता है, जबकि शाकाहारियों को वनस्पति से प्राप्त हो जाता है। मानव शरीर के कार्य करने के लिए ऐसा कोई पौष्टिक तत्व नहीं है, जो वनस्पतियों से प्राप्त नहीं किया जा सकता हो। शाकाहारी भोजन में रोगों से लड़ने की क्षमता होती है। मांस में मिलने वाले तत्वों के कारण मांसाहार का पाचन जल्द नहीं किया जा सकता, जबकि शाकाहार भोजन का पाचन जल्दी किया जा सकता हैं। आइए जानें शाकाहार भोजन के फायदों के बारे में।

दोनों में तुलना

नॉनवेज में अपनी खासियत होती है लेकिन दोनों की तुलना की जाए तो फलों, सब्जियों और दालों में माइक्रोन्यूट्रिएंट तत्व अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। इसी वजह से मांसाहारी लोगों को भी अपने भोजन में सैलेड और सब्जियों को प्रमुखता से शामिल करना चाहिए ताकि उन्हें संतुलित मात्रा में पोषक तत्व मिल सकें। अगर आपके मन में सेहत, फिटनेस और खानपान से जुड़ी कोई भी गलतफ़हमी हो तो उसे दूर करने के लिए आप किसी डॉक्टर या किसी नूट्रिशनिस्ट से सलाह भी ले सकते हैं।

270489